Home अपराध FIR के कुछ देर बाद अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा- उप्र...

FIR के कुछ देर बाद अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा- उप्र की भाजपा सरकार ने मेरे ख़िलाफ़ जो एफ़आईआर लिखवाई है, जनहित में उसकी प्रति प्रदेश के हर नागरिक के सूचनार्थ यहाँ प्रकाशित कर रहे हैं। अगर आवश्यकता पड़ी तो राजधानी लखनऊ में होर्डिंग भी लगवा देंगे

1412
0
akhilesh yadav in custody samajwadi party sp chief  detained by lucknow police violation of section

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव समेत 21 सपाइयों के खिलाफ बंधक बनाकर मारपीट करने का केस पाकबड़ा थाने में दर्ज कराया गया है। आरोप है कि गुरुवार को हुई प्रेसवार्ता में उनके उकसाने पर ही सुरक्षाकर्मियों और सपा कार्यकर्ताओं ने पत्रकारों के साथ मारपीट की। इसके कुछ देर बाद अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा- उप्र की भाजपा सरकार ने मेरे ख़िलाफ़ जो एफ़आईआर लिखवाई है, जनहित में उसकी प्रति प्रदेश के हर नागरिक के सूचनार्थ यहाँ प्रकाशित कर रहे हैं। अगर आवश्यकता पड़ी तो राजधानी लखनऊ में होर्डिंग भी लगवा देंगे। ये एफ़आईआर हारती हुई भाजपा की हताशा का प्रतीक है।

बता दें कि सपा अध्यक्ष अखिलेश गुरुवार शाम होटल हॉलीडे रीजेंसी में प्रेसवार्ता कर रहे थे। इसी दौरान हुए विवाद के बाद उनके सुरक्षाकर्मियों ने पत्रकारों के साथ मारपीट और धक्का-मुक्की की थी। पत्रकारों का आरोप था कि सवाल पूछने पर नाराज अखिलेश ने उन्हें सुरक्षाकर्मियों से पिटवाया जबकि सपा ने साजिशन कार्यक्रम खराब करने के लिए हंगामा करने का आरोप लगाया था। इस मामले में शुक्रवार को इंडियन प्रेस एलाइवनेस एसोसिएशन (आईपीएए) के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अवधेश पराशर के नेतृत्व में पत्रकारों ने प्रदर्शन करके एसपी सिटी को तहरीर दी थी। इसी तहरीर के आधार पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और बीस अन्य समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ मारपीट, बंधक बनाने और बलवा करने का केस दर्ज किया गया है। एसएचओ पाकबड़ा रजनी द्विवेदी ने बताया कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

उधर, सपा के जिलाध्यक्ष जयवीर सिंह यादव ने भी सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की प्रेसवार्ता के दौरान हंगामे के मामले में एसएसपी को तहरीर देकर पाकबड़ा थाने में केस दर्ज कराया है। एफआईआर में टीवी पत्रकारों फरीद शम्सी और उवैदुल रहमान पर पूर्व मुख्यमंत्री का सुरक्षा घेरा तोड़ने, उनकी छवि खराब करने, सुरक्षाकर्मियों पर हमला करने आदि के आरोप लगाए गए हैं। मुरादाबाद के एसपी सिटी अमित कुमार आनंद का कहना है कि प्रेसवार्ता के दौरान हंगामे के मामले में दोनों पक्षों से तहरीर मिली थी। पत्रकारों की तहरीर पर पूर्व मख्यमंत्री अखिलेश यादव समेत 21 लोगों पर केस दर्ज किया गया है। जबकि सपा जिलाध्यक्ष ने भी दो पत्राकारों पर गंभीर आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई है। मौके के सीसीटीवी फुटेज और वायरल हुए विभिन्न वीडियो के माध्यम से जांच पड़ताल की जा रही है। जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here